hath ki rekha dekhna sikhe हस्त रेखा कैसे देखते हैं सीखे पांच मिनट में

हस्त रेखा कैसे देखते हैं सीखे पांच मिनट में , कहते हैं हस्त रेखा देख कर किसी भी वियक्ति के भूत भविष्य वर्तमान का पता लगया जा सकता हैं ,हथेली में जो आडी तिरछी रखायें होती हैं उनमे जीवन के सभी रहस्य छुपे होते हैं ,ज्योतिषाचार्य वियक्ति की हथेली का अध्यन कर के उसके जीवन में आने वाली रुकावटों और कष्टों को भांप लेते हैं ,लेकिन कई कारणों से आपके सामने प्रत्यक्ष नहीं बताते ,ताकि कोई अंधविश्वास में न फास जाए ,यां वहम का शिकार न हो जाएँ ,



हथेली में मुख्यता चार रेखाओं जीवन रेखा , मस्तिष्क रेखा , हृदय रेखा, भाग्य रेखा  से व्यक्ति के आचरण स्वास्थ्य , धन सम्पति का पता लगया जाता हैं जिनका वर्णन यहाँ विस्तार से किया जा रहा हैं ,

हस्त रेखा कैसे देखते हैं सीखे पांच मिनट में
जीवन रेखा - इसको लाइफ लाइन भी कहते हैं ,इसकी सहायता से व्यक्ति की उम्र और स्वास्थ्य का पता लगाया जाता हैं ,ये रेखा अंगूठे और तर्जनी के मध्ये से शुरू होती हैं तथा मणिबंध रेखा तक जाती हैं ,जो हथेली और कलाई का संगम स्थान होता हैं .ये रेखा जितनी लम्बी होती हैं व्यक्ति की उम्र भी उतनी लम्बी मानी जाती हैं ,

जीवन रेखा को अगर छोटी छोटी रेखाएं काटती हों तो इसका अर्थ हैं व्यक्ति के जीवन में उतने कष्ट आ सकते हैं अगर जीवन रेखा किसी स्थान से टूटी हुयी हों तो उस उम्र में व्यक्ति की कोई दुर्घटना या गंभीर रोग हों सकता हैं.

ये रेखा जितनी गहरी और स्पष्ट होती हैं व्यक्ति का स्वास्थ्य उतना ही अच्छा होता हैं , जिनकी लाइफ लाइन पतली और जगह जगहसे कटी हुयी होती हैं उनकी रोग प्रति रोधक क्षमता उतनी कम होती हैं ऐसे लोग जल्दी बीमार हों जाते हैं .
मस्तिक रेखा -
इस रेखा को ब्रेन लाइन या मंद लाइन भी कहते हैं ये तर्जनी और अंगूठे के मध्य से शुरू होकर हथेली के मध्य या अंत तक जाती हैं इस रेखा की सहायता से व्यक्ति के व्यवहार का पता लगाया जा सकता हैंलम्बी और सीधी रेखा का मतलव व्यक्ति तीव्र बुद्धि वाला हैं ,ऐसे व्यक्तिओं की स्मरण शक्ति तेज होती हैं .

निचे की और झुकी हुयी मस्तिक रेखा मांकित परेशानिओ को दर्शाती हैं ,लहर दार मस्तिक रेखा से पता चलता हैं के व्यक्ति के जीवन में कई बार उतार चढ़ाव आने हैं , अगर किसी के हाथ में मस्तिक रेखा लहरदार हों तो व्यक्ति ऐसे व्यक्ति अपने बिचारों में परिवर्तन करते रहते हैं , किसी एक निर्णय पर ज्यादा देर तक टिक नहीं पते

हथेली के आखरी छोर तक पहुंची हुयी रेखा से पता चलता हैं के व्यक्ति कितना धैर्यवान और साहसी हैं. जिनकी मस्तिक रेखा कर्व के आकर की होती हैं ऐसे वियक्ति ब्रॉड माइंडेड होते हैं ,

मस्तिक रेखा किसी स्थान से कटी हुयी हैं तो उम्र के उस दराज में व्यक्ति को शारीरक चोट या कष्ट से मानसिक परेशानी हों सकती हैं अगर इस रेखा पर बहुत सारी छोट छोटी रेखा हों तो ऐसे व्यक्तिओं का जीवन  उम्र परेशानिओ में गुजरता हैं.

भाग्य रेखा - 
इस रेखा को fate लाइन भी कहते हैं इस से चलता हैं के इस वियक्ति के भाग्य में धन कितना हैं , भाग्य रेखा हथेली से शुरू होकर शनि पर्वत तक जाती हैं , हर वियक्ति के हाथ में इसकी लम्बाई अलग होती हैं , जितनी लम्बी और स्पष्ट रेखा होती हैं ऐसे व्यक्ति को अपने जीवन के निर्वाह के लिए पर्याप्त धन मिलता रहता हैं ,

छोटी और अष्पष्ट रेखा से पता चलता हैं के वियक्ति को अपनी रोज मर्रा की जरूरतों को पूरा करने के लिए कितना संघर्ष करना पड़ सकता हैं .गहरी और मोटी भाग्य रेखा बाले व्यक्ति किसी संगठन के मुखिया हों सकते हैं या राजनीती में जा सकते हैं .अगर भाग्य रेखा को कोई दूसरी रेखा काट दे तो व्यक्ति को उस उम्र में धन हानि या व्यापार में घटा हों सकता हैं.

हृदय रेखा - 
इसका दूसरा नाम हार्ट लाइन हैं ,इस से वियक्ति के मित्रों और रिश्तेदारों का पता चलता हैं स्पष्ट हार्ट लाइन बाले वियक्ति के मित्र और रिश्तेदार उसको पसंद करते हैं .ये रेखा चीची ऊँगली के निचे से शुरू होकर मध्यमा ऊँगली के निचे ख़तम होती हैं .

हृदय रेखा जगह जगह से टूटी हुयी हों या छोटी छोटी रेखाओं से मिल कर हृदय रेखा बनी हों तो ऐसा वियक्ति किसी मुसीबत में फसा हुआ हैं ऐसा समझना चाहिए ,उस वियक्ति के मित्र या रिश्तेदार उसको धोखा दे सकते हैं .
हृदय रेखा से व्यक्ति के रोमांटिक स्वभाव का भी  पता चलता हैं , अगर शुक्र पर्वत से कोई रेखा निकल कर हृदय रेखा तक पहुँचने की कोशिश करे तो ऐसे व्यक्ति के जीवन में एक से ज्यादा प्रेम प्रसंग होते हैं .हृदये रेखा से छोटी रेखाएं निकल कर मस्तिक रेखा को छूने की कोशिश में हों तो ऐसे व्यक्ति अपने हर एक काम को बहुत साबधानी पूर्वक और सोच विचार कर करते हैं .

सूर्य रेखा - 
सूर्य रेखा से व्यक्ति के समाजिक और सरकारी ओहदे का पता चलता हैं , हथेली में ये रेखा अनामिका के मूल से शुरू होकर हृदय रेखा के नजदीक ख़तम हों जाती हैं .ये रेखा बहुत छोटी होती हैं लेकिन इसका महत्व बहुत ज्यादा होता हैं सूर्य रेखा अगर कटी हुयी हों तो ऐसे वियक्ति को बदनामी का सामना करना पड़ता हैं साफ़ और बिना काट वाली सूर्ये

रेखा से पता चलता हैं के वियक्ति को समाज में कितना इज़्ज़त और यश मिलता हैं .सूर्य रेखा स्पष्ट और गहरी हों तो ,ऐसे व्यक्ति सरकारी नौकरी में होते हैं या किसी राजनितिक दल से जुड़े होते हैं .

प्रणय रेखा -
ये रेखा लव लाइन के नाम से जानी जाती हैं सबसे छोटी ऊँगली के मूल के किनारे में हथेली के बाहर की तरफ आप इन रेखाओं को देख सकते हैं .इस से व्यक्ति के प्रेम सबंधो का पता चलता हैं अगर यहाँ एक से अधिक रेखा हैं तो उस व्यक्ति के जीवन में एक से अधिक रिश्ते होते हैं या होकर टूट जाते हैं.

बच्चों की रेखा -
आपके या आपके मित्र के कितने बच्चे होंगे इसका पता लगाने के लिए आप प्रणय रेखा को बहुत ध्यान से देखे .अगर आपकी नज़र तेज होगी तो आपको उस पर बहुत बारीक दो या तीन रेखाएं दिख सकती हैं .जितनी रेखाएं होंगी व्यक्ति के उतने बच्चे होते हैं .

स्वास्थय रेखा -
इस रेखा से वियक्ति के शारीरिक डीलडोल का पता चलता हैं ,ये रेखा किसी किसी के हाथ में होती हैं ,इस रेखा का कोई ख़ास महत्व नहीं हैं , लेकिन अगर आपके हाथ में ये रेखा हैं तो आपका नर्वस सिस्टम स्ट्रांग हों सकता हैं.

गुर वल्य - 
ये रेखा बहुत कम लोगो की हथेली में होती हैं , जिनके हाथ में गुरु वल्य होता हैं वो व्यक्ति नेत्र्तव की क्षमता रखते हैं ,किसी धार्मिक संगठन के मुखिया हों सकते हैं.

शुक्र वल्य - 
ये रेखा मध्यमा और तर्जनी के मूल स्थान में देखि जा सकती हैं , जिनके हाथ में ये रेखा होती हैं वो सारी उम्र कामवासनाओं में फसे रहते हैं.
शनि वल्य -
शनिकी ऊँगली अर्थात मध्यमा ऊँगली के मूल में होता हैं , आप चित्र में देख सकते हैं जिनके हाथ में ये रेखा होती हैं समझ लो उनको शनि का प्रकोप झेलना पड़ रहा हैं .
क्यों के ऐसे व्यक्ति दार्शनिक और चिंतन करने बाले होते हैं जो उनको , निराशावादी , और नकारात्मक सोच वाला बना देती हैं .ऐसे लोग दुनिया से अलग रहते हैं किसी के साथ घुल मिल नहीं सकते.

इच्छा शक्ति और तर्क शक्ति - 
अगर आपके अंगूठे का पोर अधिक लम्बा हैं तो आपकी इच्छा शक्ति मजबूत हैं और अगर आपके अंगूठे का मध्य भाग लम्बा हैं तो आपकी तर्क शक्ति अधिक हैं आप किसी भी बात पर बहस कर सकते हैं चाहे आपको उसका ज्ञान हों या न हों .

कामयावी की रेखा -
अगर आपके हाथ में ये रेखा हैं तो आप अपने जीवन में हर क्षेत्र में कामयाब हों जाते हैं , लेकिन ये रेखा हरकिसी के हाथ में नहीं होती इसका मतलव ये नहीं के वो वियक्ति कामयाव नहीं हों सकता .इसके लिए और भी बहुत सारे तथ्य काम करते हैं .
conclusion :-
आखिर में मैं इतना कहना चाहता हूँ के ये आर्टिकल सिर्फ जानकारी के लिए लिखा गया हैं , अगर आप मेहनती हैं तो आप अपना भाग्य खुद लिख सकते हैं .

Post a Comment

Previous Post Next Post