-->

dadi ma ke gharelu nuskhe दादा ने बताये दादी माँ को घरेलु नुस्खे पढ़ने में न करिओ शर्म

दादी माँ के घरेलु नुस्खे , आयुर्वेदिक उपाय ,क्या आप अंग्रेजी दवाईआं खा के और बीमार हो रहे है ,आपको अलोपैथी दवाईओं से रिएक्शन या घबराहट होती है तो आप आयुर्वेदिक दवाईओं का इस्तेमाल करें ,आयुर्वेद के घरेलु नुस्खे आपकी सेहत और जीवन के लिए लाभदायक होते है .और इनका कोई साइड इफ़ेक्ट भी नहीं होता .इस लेख में मैं आपको कुछ असाध्य रोगो केन घरेलु नुस्खे बताने जा रहा हु जो आपके बहुत काम आ सकते है .इनको अपनी डायरी में लिख लें .


दादी माँ के घरेलु नुस्खे - (gharelu nuskhe ) आयुर्वेदिक उपाय
कील मुहासों के लिए--100 ग्राम संतरे के सूखे छिलके ,नीम के पत्तों का रस एक चमच , बेसन 50 ग्राम ,मुल्तानी मिट्टी 1 चमच, चारों को पानी में मिलाकर फेस पैक की तरह अपने चेहरे पर लगाएं ,सूखने पर मुँह धो लें ,फिर उसके बाद अपने चेहरे पर हल्का सा भाप दें , हफ्ते में एक दो बार लगाने से कील मुहासे ठीक हो जाते है ,

छाती में जलन -या hyper acidity -अचार से परहेज करें भोजन के बाद मीठी सोंफ और मिश्री मिलाकर खाने से अम्लपित्त की शिकायत ठीक हो जाती है ,

गर्मिओं में बुखार -- कालमिर्च 3 दाने ,गिलोय चूर्ण आधा चमच तुलसी के पत्ते 5 . इन सबको पीस कर सुबहा शाम दोनों समय पानी के साथ खाएं .

शुगर के लिए . अगर आपको शुगर की प्रॉब्लम है तो गुड़ मार बूटी और नीम के पत्ते इसको सूखा आकर चूरन बनालें ,2ग्राम सुबह २ ग्राम शाम को खाने से शुगर कट्रोल में आ जाती है ,
अगर शुगर शुरुआत में है तो करेले का रस 100 ml सुबह 100 ml शाम को पिने से 7 दिन में शुगर ठीक हो जाती है .

गुटखा तम्बाकू की आदत -- अगर आपको गुटखा या तम्बाकू खाने की आदत है तो एक अदरक का टुकड़ा लेकर उसके छोटे छोटे टुकड़े कर लें फिर उस में नीबू का रस और काला नमक स्वादनुसार डाल कर सूखा लें ,जब गुटखा खाने का मन करे तो एक टुकड़ा मुँह में रख के चूसते रहें .
पान की जड़ को लेकर सूखा कर छोटे छोटे टुकड़े कर लें , जब बीड़ी सिगरेट का मन करे तो एक टुकड़ा मुँह में रख के चूसते रहें ,तम्बाकू की आदत कुछ ही दिनों में छूट जाएगी.

पेट दर्द के लिए - अजवायन 50 ग्राम ,कड़बी सोंफ 50 ग्राम , इन दोनों को मिला कर तबे पर हल्का भून लें जब पेट दर्द हो या बदहजमी महसूस हो तो इसका आधा चमच लेकर चुटकी भरा सेंधा नमकमिला के गुनगुने पानी के साथ खा लें

सर दर्द के लिए नुस्खा -- अगर आपको सर में दर्द रहता है तो ठन्डे दूध में जलेबी डाल कर खाएं हफ्ते में दो चार बार खाने से सर दर्द ठीक हो जाता है .

रक्त की कमी के लिए नुस्खा - कई बार पेट में कीड़े होने पर या किसी और कारन से शरीर में रक्त की कमी हो जाती है .इसके लिए तीन मुन्नका रात को भिगो कर सुबह खाली पेट खालें , खाने से पहले बाज निकल लें, इस से शरीर में नया रक्त बनने लगता है .

सर्दी जुकाम के लिए - सोंठ , काली मिर्च , पीपल इन तीनो को पीस कर रख लें , जब सर्दी जुकाम , हो तो,चाय बनाते समय इस चूरन की दो चुटकी डाल कर चाय बनाये और फिर पी लें बंद नाक खुल जायेगा.

.घुटनो के दर्द के लिए आधा चमच मेथी दाना 250 ग्राम पानी में डाल कर उबालें 150 ग्राम रहने पर ठंडा कर के दिन में दो बार पियें सात दिन पिने से घुटनो के दर्द में आराम मिल जाता है .

खांसी के लिए -सितोपलादि चूर्ण की दो चुटकी आधा चमच शहद में मिलाकर चाटने से खांसी के साथ बलगम आना ठीक हो जाता है .बच्चों को आधा चुटकी दे सकते है .
सुखी और बलगमी खांसी के लिए पतंजलि की स्वासाहारी सिरप पांच मल पिने से हर प्रकार की खांसी ठीक हो जाती है .

बच्चों का बिस्तर में पेशाब करना - अक्सर पांच से दस साल के बच्चे बिस्तर में पेशाब कर देते है उनके लिए एक छुहारा दूध में उबाल कर पीला दें . 40 दिन लगातार पिलाने से उनकी आदत ठीक हो जाती है .

बालों का सफेद होना - ज्यादा पड़ने बाले बच्चों के बाल असमय सफ़ेद हो जातें है .भृंग राज और आंबला दोनों को पीस कर चूर्ण बना लें ,एक चमच सुबहा एक चमच शाम को दूध के साथ लें.

आँखों की नज़र तेज करने के लिए -- बादाम गिरी , सोंफ और ब्राह्मी बूटी का चूर्ण ,चार मगज ,मिश्री ,एक चमच घी , एक गिलास दूध ,
पांच बादाम की गिरी एक चमच चार मगज , एक कटोरी पानी में रात को भिगो दें , , सुबह बादाम का छिलका निकाल कर चार मगज के साथ अच्छी तरह पीस लें ,एक कड़ाही में एक बड़ा चमच देसी घी डाल कर बादाम और चार मगज का पेस्ट दो मिनट केलिए भुने फिर उसमे दूध और मिश्री और 10 ग्राम ब्राह्मी बूटी का चूर्ण मिलाकर अच्छी तरह उबालें ,लगातार छे महीने तक पिने से आपकी आँखों की ज्योति साडी उम्र बरकरार रहेगी.




EmoticonEmoticon