-->

मुँह के छाले से निजात पाने का देसी टोटका mouth ulcer treatment in hindi

muh ke chale muh ke chale ilaz  आप हर रोग सहन कर सकते है लेकिन अगर मुँह में छाले हो जाये तो बहुत बुरा लगता है न कुछ खाया जाता है और न ही मन में चैन आता है ,रोग देखने में सामन्य लगता है परन्तु यही रोग विकृत हो जाये तो मुँह के कैंसर का कारण भी बन सकता है , ये छाले ज्यादातर होंठों पर गले या जीभ में होते हैं . मुँह के छाले का आयुर्वेदिक और घरेलु उपचार अगर आपके मुँह में लगातार छाले होते है ,कई एलॉपथी दवाईयां खाने से भी अगर मुँह के छाले ठीक न हो ते इस आर्टिकल में बताये गए उपाए को अपनाने से एक दिन में ही छाले ठीक होने लगते है



muh me safed chale,
mouth ulcer treatment in  hindi मुँह में छाले क्यों होते है



  1. यहाँ सबका का अलग अलग मत हो सकता है आयुर्वेद में कहा जाता है

  2. अगर लीवर में गर्मी हो जाये तो मुँह में छाले हो जाते है ,

  3. allopathy  का कहना है के शरीर में विटामिन c और बी की कमी से मुँह के ulcer  होते है

  4. कई विशेषज्ञ कहते है के पेट में खराबी से या typhoid के कीटाणु  होने से भी मुँह के छाले हो सकते है

  5. डॉक्टरों का कहना है के मुँह के छाले का कारण फंगल इंफेक्शन भी हो सकता है


mouth ulcer desi nuskhe for mouth ulcers


एलॉपथी में  mouth ulcer के लिए विटामिन के कैप्सूल्स या मुँह में लगाने के लिए एक ऑइंटमेंट देते है जो आपके मुँह को थोड़ी देर के लिए सुन्न कर देती है लेकिन दवाई का असर ख़तम होते ही फिर से मुँह में दर्द और बेचैनी शुरू हो जाती है .

कई बड़े डॉक्टर एंटीबायोटिक भी खिलाते है जो आपके मुँह के छालों को कुछ दिनों के लिए ठीक तो कर देते है लेकिन एंटीबायोटिक्स का साइड इफ़ेक्ट भी होने लगता है.


muh ke chaley  ka parhej :-


अगर आपके मुँह में भी लगातार छाले होते है तो सबसे पहले आप तेज मिर्च मसाला खाना बंद कर दे ,गुटखा , और हाई प्रोटेने की चीजे ना खाएं ,छुहारे , खजूर , सुपारी , बैंगन , शिमला मिर्च , और सभी वो चीजे जो गरम तासीर की होती है कुछ दिनों के लिए उनसे परहेज करें. लाल मिर्च , काली मिर्च न खाएं


desi nuskhe for mouth ulcers


1 ) -  अब विज्ञानं ने बहुत तरक्की कर ली है भोजन बनाने के लिए गैस चूल्हे का प्रयोग किया जाता है , पुराणे जमाने में लोग घरों में रोटी पकाने के लिए लकड़ी से चूल्हा जलाते थे , रोटी पकाने के लिए चूल्हे पर लोहे के तबे का प्रयोग किया जाता था

उस तबे के नीचे लकड़ी की काली राख जम जाती थी उस राख को निकाल कर किसी डिब्बी में बंद कर के रख लें अगर मुँह में छाला हो तो एक चुटकी राख़ को मुँह के छाले के ऊपर लगाने से मुँह के छाले ठीक होना शुरू हो जाते है .

ये उपाए आप एक दिन में दो बार करें एक बार सुबहा और एक बार शाम को सिर्फ दो दिन लगाने से आपके मुँह के छाले ठीक हो जाते हैं.

final words:- 

इस आर्टिकल में बताये गए muh ka chala ke उपाए गांव के लोग अक्सर प्रयोग करते हैं और  इसका लाभ भी मिलता हैं अगर आप इनको प्रयोग करना चाहते हैं तो पहले किसी अच्छे आयुर्वेदिक डॉक्टर से विचार विमर्श करें.और यदि रोग गंभीर हैं तो डॉक्टर के पास जरूर जाएँ ,


EmoticonEmoticon