-->

Friday, September 11, 2020

author photo
कामदेव  चूर्ण मरदाना कमजोरी के लिए ( कामदेव चूर्ण बनाने की विधि ) राम बाण औषधि है , गर्म खाद्य पदार्थो का सेवन अधिक करने या अश्लील दृश्य देखने से वीर्य पतला हो जाता है ,जिससे स्वपनदोष शीघ्रपतन ,नपुंसकता आदि रोग अपनी जड़े जमाने लगते है .इन सब रोगो से छुटकारा पाने के लिए कामदेव चूर्ण उत्तम औषधि है .

मरदाना कमजोरी की   राम बाण औषधि कामदेव  चूर्ण


काम देव चूर्ण कैसे बनाते है :- 

  1. कोंच के बीज 10  ग्राम
  2. सफ़ेद मूसली 20  ग्राम
  3. ताल मखाना 40  ग्राम
  4. मखाने की थुडी    40  ग्राम 
  5. मिश्री 50  ग्राम
सब औषधिओ को बारीक पीस कर चूर्ण बनावे और प्लास्टिक की डिब्बी में डाल का रख लें,

सेवन विधि :-

दो  या तीन ग्राम सुबह शाम गाय के दूध के साथ भोजा के एक घंटा बाद सेवन करना चाहिए

कामदेव चूर्ण के फायदे kamdev churan ke fayede 

वीर्य को मक्खन की तरह गाड़ा करे  

कामदेव चूर्ण के सेवन से वीर्य (धातु) मक्खन   की तरह गाढ़ा हो जाता है , अगर वीर्य पानी की तरह पतला हो गया है तो कामदेव चूर्ण का सेवन तीन महीने तक करें

शीघ्रपतन में लाभकारी 

शीघ्रपतन रोग का मुख कारन  धातु का पतलापण है , इस चुइरन के सेवन से धातु में शुक्राणुओं की संख्या में वृद्धि हो जाती है वीर्य पौष्टिक हो जाता है . अगर आप लम्बी उम्र तक जवानी का आनंद मनाना चाहते है तो इस चूर्ण का सेवन 40 दिनों तक करें,

इंद्री में उत्तेजना का संचार करे 

उत्तेजना में  कमी होने पर जीवन बेकार सा लगने लगता है जीवन में सुखी रहना चाहते है या शादी शुदा जिंदगी में सफल रहना चाहते है तो कामदेव चूर्ण कर सेवन करने से निराश से निराश वियक्ति के जीवन में भी आनंद आ जाता है .इस चूरन के सेवन से इन्द्री मे नयी उत्तेजना का संचार  महसूस किया जा सकता है .कामदेव चूरन आपके मन को भी प्रभावित करता है .इसमें चूरन में कोंच के बीजों का मिश्र होने से ये लिंग को उत्तेजित  और कठोर बना देता है .


वीर्य में शुक्राणुओं की संख्या को बढ़ाता है 

जो पुरुष हस्तमैथुन आदि अप्राकृतिक तरीके से वीर्य नाश करते है शादी के बाद वो अपनी पत्नी को खुश रखने में असमर्थ हो जाते है ऐसे पुरुषों के लिए काम देव चूर्ण राम बन औषधि है . हस्तमैथुन और अश्लील साहित्य अधिक देखने और अश्लील वीडियोस देखने से वीर्य बहुत पतला और शुक्राणु हीन हो जाता है . इसमें ताल मखाना का मिश्रण होने से , ये चूर्ण मसाने की गर्मी को ख़तम करता है . अंडकोष को ठंडा रखता है . शरीर को बलबान बना देता है .और वीर्य में नए शुक्रणओं की संख्या को बढ़ाने में मदद करता है 

Final words :- 

इसके इलावा काम देव चूर्ण के सेवन से शरीर बलवान और सुदृढ़ बन जाता है , मन में अलग तरह का उत्साह आ जाता है . वीर्य में शुक्राणुओं की संख्या में वृद्धि हो जाती है ,वीर्य गाढ़ा और सफ़ेद हो जाता है . शीघ्रपतन - नामर्दी , स्वपनदोष आदि रोगों का सफाया जो जाता है .

This post have 0 komentar


EmoticonEmoticon

Next article Next Post
Previous article Previous Post