-->

सारस्वतारिष्ट के चमत्कारी लाभ sarsvtarisht ke fayede or nuksan hindi me

sarsvtarisht kaise banaye  sarsvtarisht ke fayede or nuksan  कीमत लाभ और उपयोग विधि , सारस्वतारिष्ट की जानकारी हिंदी में - स्त्रिओं के लिए लाभकारी आयुर्वेदिक ओषधि , मासिक धर्म के विकारों को करे ठीक  ,बच्चों के लिए भी लाभकारी. इसके सेवन से आयु और बुद्धि की वृद्धि होती है स्मरणशक्ति ,कान्ति में इज़ाफ़ा होता है ,सारस्वतारिष्ट के सेवन से हृदय के रोग ठीक हो जाते है ,बच्चे से लेकर बूढ़े स्त्री पुरुष जवान सबसे के लिए हितकारी है.
srasvtarisht in hindi सारस्वतारिष्ट के लाभ


सारस्वतारिष्ट एक कम्पलीट आयुर्वेदिक फैमिली टॉनिक है जिसे बच्चों  से लेकर महिला पुरुष और बजुर्गों में समान से से लाभकारी सिद्ध होता है ,


सारस्वतारिष्ट में प्रयोग की जाने वाली जड़ी बूटियां ingredients of sarsvatarisht -

  1. ब्राह्मी
  2. शतावर
  3. विदारीकंद
  4. बड़ी हर्र
  5. खस
  6. अदरख
  7. सोंफ
  8. स्वर्णपत्र
  9. वच
  10. कूठ
  11. असगंध
  12. बहेड़ा
  13. शहद
  14. वायविडंग
  15. दाल चीनी
  16. निशोथ
  17. छोटी पीपल
  18. लौंग
  19. धाय के फूल
  20. रेणुका
  21. गिलोय
  22. छोटी इलाची

निर्माता 

सारस्वतारिष्ट कई अच्छी कम्पनीओ द्वारा बनाया जाता है , पतंजलि , बैद्यनाथ , झंडू ,धन्वंतरि , डाबर आदि आप अपनी समझ से किसी भी कंपनी का सारस्वतारिष्ट ले सकते है

सेवन और उपयोग विधि

खाना खाने के एक घंटा बाद , 10 ml या 15 ml सारस्वतारिष्ट लेकर उसमे बराबर मात्रा में पानी मिला कर पियें  दिन मे दो बार पीना चाहिए.


सारस्वतारिष्ट के चमत्कारी लाभ  sarsvtarisht ki jankari

महिलाओं के लिए

मासिक धरम की गड़बड़ी के कारन कई बार को चक्र आने लगते है नज़रों के सामने की हर एक चीज घूमती हुयी महसूस होती है , आंखे बंद करने पर सब ठीक लगता है ,घबराहट अशांति ,नींद न आना बेहोशी ,सभाव चिड़चिड़ा और जल्दी गुस्सा आ जाना , किसी की बात अच्छी न लगना , महिलाओं को मासिक धरम ठीक से नहीं होता हो  , कभी कम कभी ज्यादा ,मासिक धरम सही तिथि में न आये तो ये सब उपद्रव होने लगते है.  इन सब विकारों को ठीक करने के लिए सारस्वतारिष्ट का सेवन 3 महीने तक लगातार करना चाहिए .


बच्चों के लिए भी लाभकारी


छोटे बच्चों को कुछ दिनों तक लगातार इसका सेवन करवाने से उनकी स्मरणशक्ति तेज हो जाती है ,आँखों की रौशनी बढ़ती है , थोड़ा तुतला के बोलते है उनको भी इसका सेवन करवाना चाहिए इससे उनकी बोली साफ़ हो स्पष्ट हो जाती है ,


कमजोर लड़किओं के लिए भी लाभकारी

यौवना अवस्था पहुँचने पे भी जिन लड़किओं के मासिक धर्म की शुरुआत नहीं हुयी ,शरीर दुबला पतला ,हो वक्ष आदि अंगो की बृद्धि न हुयी हो खून की भी कमी हो उनको रजपर्वतनी वटी के साथ सारस्वतारिष्ट का सेवन करना चाहिए इसके सेवन से गर्भाशय और बीजाशय दोनों तंरुस्त हो जाते है.

पुरुषों के इन रोगो में होता है फायदा

पुरुष अगर इसका सेवन करते है तो उनके चेहरे की रौनक बढ़ने लगती है ओजवृद्धि होती है , खुरदरी आवाज़ मधुर हो जाती है ,शुक्र जन्य जितने भी विकार है वो सब ठीक हो जाते है नवयौवन आ जाता है। मानसिक थकान को दूर करता है , अच्छी नींद लाने के लिए इसका सेवन करना चाहिए। जो लोग अधिक पड़ने लिखने का काम करते है ,उनको दिमाग तेज करने के लिए sarsvtarisht ka सेवन करते रहना चाहिए इसमें व्रह्मी और वच का संयोग होने से याददास्त तेज करता है.

सरस्वतारिश के नुक्सान

इसको पिने से किसी भी प्रकार का कोई नुक्सान नहीं है फिर भी  गर्भावस्था में इसका सेवन डॉक्टर की देख रेख में करना चाहिए ,सुगर और डाइबिटीस के मरीज को सेवन नहीं करना चाहिए

  1. स्मरण शक्ति तेज करे  .
  2. इसके सेवन से आयु की वृद्धि होती है.
  3. स्मरणशक्ति  की वृद्धि होती है,
  4. इसके सेवन से आवाज में मधुरता आती है.
  5. अधिक पढ़ने वाले विद्यार्थिओं  में स्मरणशक्ति की वृद्धि करता है .
  6. धातु दौर्वल्य और रजोदोष में लाभकारी है .
  7. सारस्वतारिष्ट हृदय को बलवान बनाता है .
  8. सारस्वतारिष्ट मन और दिमाग को तरोताजा रखता है .
  9.  नींद न आने पर सारस्वतारिष्ट का सेवन करना उचित है .

note:- 
अगर देखा जाये तो sarsvtarisht  पुरे परिवार के लिए के लिए हेल्थ टॉनिक है ,लगातार इसके सेवन से बल की वृद्धि होती  है हृदय मजबूत बनता है छोटे बच्चों को 5 ml सुबहा 5 ml  शाम को बराबर पानी मिलकर पिलायें.


EmoticonEmoticon