-->

तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से आयी teri murli ki dhun sunne main barsane se aayi hun lyrics

 teri murli ki dhun sunne main barsane se aayi hun


तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से आयी हूँ ।

मैं बरसाने से आयी हूँ, मैं वृषभानु की जाई हूँ ॥

अरे रसिया, ओ मन वासिय, मैं इतनी दूर से आयी हूँ ॥


सुना है श्याम मनमोहन, के माखन खूब चुराते हो ।

उन्हें माखन खिलने को मैं मटकी साथ लायी हूँ ॥


सुना है श्याम मनमोहन, के गौएँ खूब चरते हो ।

तेरे गौएँ चराने को मैं ग्वाले साथ लायी हूँ ॥


सुना है श्याम मनमोहन, के कृपा खूब करते हो ।

तेरी कृपा मैं पाने को तेरे दरबार आयी हूँ ॥

श्रेणीकृष्ण भजन

तेरी मुरली की धुन सुनने मैं बरसाने से आयी


teree muralee kee dhun

 sunane main barasaane se aayee hoon .


 main barasaane se aayee hoon, 

main vrshabhaanu kee jaee hoon .


 are rasiya, o man vaasiy,

 main itanee door se aayee hoon . 


suna hai shyaam manamohan,

 ke maakhan khoob churaate ho . 


unhen maakhan khilane ko 

main matakee saath laayee hoon .


 suna hai shyaam manamohan,

 ke gauen khoob charate ho . 


tere gauen charaane ko main

 gvaale saath laayee hoon . 


suna hai shyaam manamohan,

 ke krpa khoob karate ho . 


teree krpa main paane ko 

tere darabaar aayee hoon . 

और नया पुराने