-->

निर्धन के घर भी आ जाना भजन लिरिक्स kabhi phursat ho to jagadambe bhajan lyrics

 कभी फुर्सत हो तो जगदम्बे, निर्धन के घर भी आ जाना |

जो रूखा सूखा दिया हमें, कभी उस का भोग लगा जाना ||


ना छत्र  बना सका सोने का, ना चुनरी घर मेरे टारों जड़ी |

ना पेडे बर्फी मेवा है माँ, बस श्रद्धा है नैन बिछाए खड़े ||

इस श्रद्धा की रख लो लाज हे माँ, इस विनती को ना ठुकरा जाना |

जो रूखा सूखा दिया हमें, कभी उस का भोग लगा जाना ||


जिस घर के दिए मे तेल नहीं, वहां जोत जगाओं कैसे |

मेरा खुद ही बिशोना डरती माँ, तेरी चोंकी लगाऊं मै कैसे ||

जहाँ मै बैठा वही बैठ के माँ, बच्चों का दिल बहला जाना |

जो रूखा सूखा दिया हमें, कभी उस का भोग लगा जाना ||


तू भाग्य बनाने वाली है, माँ मै तकदीर का मारा हूँ |

हे दाती संभाल भिकारी को, आखिर तेरी आँख का तारा हूँ ||

मै दोषी तू निर्दोष है माँ, मेरे दोषों को तूं भुला जाना |

जो रूखा सूखा दिया हमें, कभी उस का भोग लगा जाना ||


kabhee phursat ho to jagadambe,

 nirdhan ke ghar bhee aa jaana | 

jo rookha sookha diya hamen,

 kabhee us ka bhog laga jaana || 


na chhatr bana saka sone ka, 

na chunaree ghar mere taaron jadee | 

na pede barphee meva hai maan,

 bas shraddha hai nain bichhae khade ||


 is shraddha kee rakh lo laaj he maan,

 is vinatee ko na thukara jaana |

 jo rookha sookha diya hamen, 

kabhee us ka bhog laga jaana || 


jis ghar ke die me tel nahin,

 vahaan jot jagaon kaise | 

mera khud hee bishona daratee maan,

 teree chonkee lagaoon mai kaise || 


jahaan mai baitha vahee baith ke maan, 

bachchon ka dil bahala jaana | 

jo rookha sookha diya hamen,

 kabhee us ka bhog laga jaana || 

too bhaagy banaane vaalee hai,

 maan mai takadeer ka maara hoon |

 he daatee sambhaal bhikaaree ko,

 aakhir teree aankh ka taara hoon ||


 mai doshee too nirdosh hai maan, 

mere doshon ko toon bhula jaana | 

jo rookha sookha diya hamen, 

kabhee us ka bhog laga jaana ||

और नया पुराने