-->

ये तो प्रेम की बात है उधो ye to prem kee baat hai udho

 यह तो प्रेम की बात है उधो,

बंदगी तेरे बस की नहीं है।

यहाँ सर देके होते सौदे,

आशकी इतनी सस्ती नहीं है॥


प्रेम वालों ने कब वक्त पूछा,

उनकी पूजा में सुन ले ए उधो।

यहाँ दम दम में होती है पूजा,

सर झुकाने की फुर्सत नहीं है॥


जो असल में हैं मस्ती में डूबे,

उन्हें क्या परवाह ज़िन्दगी की।

जो उतरती है चढ़ती है मस्ती,

वो हकीकत में मस्ती नहीं है॥


जिसकी नजरो में है श्याम प्यारे,

वो तो रहते हैं जग से न्यारे।

जिसकी नज़रों में मोहन समाये,

वो नज़र फिर तरसती नहीं है॥

ye to prem kee baat hai udho, 

bandagee tere bas kee nahin hai. 

yahaan sar deke hote saude, 

aashakee itanee sastee nahin hai.


 prem vaalon ne kab vakt poochha, 

unakee pooja mein sun le e udho. 

yahaan dam dam mein hotee hai pooja, 

sar jhukaane kee phursat nahin hai.


 jo asal mein hain mastee mein doobe,

 unhen kya paravaah

 zindagee kee. jo utaratee hai 

chadhatee hai mastee, 

vo hakeekat mein mastee nahin hai. 


jisakee najaro mein hai 

shyaam pyaare, vo to rahate hain 

jag se nyaare. jisakee nazaron 

mein mohan samaaye, vo nazar phir 

tarasatee nahin hai.

और नया पुराने