-->

Raghuram rajan lifestory in hindi

Post a Comment

Raghuram Rajan को कौन नहीं जानता क्योंकि भारत के रिज़र्व बैंक के गवर्नर जो है असल में रघुराम राजन को हम तभी से जानते है जब से वो रिज़र्व बैंक के 23th गवर्नर बने इस से पहले उनकी भूमिकाएं इतनी चर्चित नहीं रही कि आम लोग उन्हें जाने | चूँकि एक विवाद के चलते यह तय हो गया कि रघुराम राजन अब अपने कार्यकाल को बढाने से इनकार कर चुके है इसलिए ऐसा कहा जा सकता है कि 1991 में आर्थिक उदारीकरण की शुरुआत के बा से Raghuram Rajan पहले ऐसे गवर्नर होंगे जिनका कार्यकाल सबसे कम रहा है | हम विवाद के बारे में बाद में चर्चा करेंगे लेकिन अभी हम राजन की जिन्दगी के बारे में कुछ महत्वपूर्ण बाते है जो जान लेते है तो चलिए बात करते है –


Raghuram rajan biography in hindi

Family Background and info – 3 फ़रवरी 1963 को भोपाल में राजन का जन्म एक तमिल ब्राह्मण परिवार में हुआ और इनका पूरा नाम है Raghuram Govind Rajan और इनके पिता गोविन्द राजन 1953 बैच के एक आईपीएस अफसर थे और उस एग्जाम में उन्होंने टॉप किया था | राजन अपने चार भाईयों में से तीसरे नंबर पर आते थे | राजन के पिता की 1966 में इंटेलिजेंस ब्यूरो के तरह इंडोनेशिया में पोस्टिंग थी और उसके बाद उन्हें कई जगह भेजा गया जिनमे से आखिर में उनकी जर्मनी पोस्टिंग थी जन्हा पर राजन समेत भाइयों में शुरुआती शिक्षा के तौर पर फ्रेंच स्कूल में पढाई की और बाद में पूरा परिवार 1974 में भारत लौट गया |



Education – 1974 में भारत लौटने के बाद राजन ने दिल्ली के  Delhi Public School, RK Puram में अपनी पढाई की और उसके बाद IIT Delhi में इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में डिग्री प्राप्त की | कॉलेज में वो एक मेधावी छात्र थे जिसकी वजह से उन्हें ग्रेजुएट होने के बाद 1985 में बेस्ट आल राउंडर छात्र के तौर पर सम्मानित किया गया | उसके बाद 1987 में उन्होंने IIM अहमदाबाद से बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन में डिग्री हासिल की और वंहा भी वह गोल्ड मेडलिस्ट ही थे | इसके बाद उन्होंने टाटा को बतौर ट्रेनी के तौर पर ज्वाइन किया लेकिन कुछ ही महीनो बाद वो MIT Sloan School of Management चले गये जन्हा उन्होंने मैनेजमेंट में डोक्ट्रल प्रोग्राम में एडमिशन लिया और पीएचडी प्राप्त की | उन्हें पसंद और शोध के विषय banking, corporate finance, and economic development रहे है |


Career –  Raghuram Rajan के करियर की बात करें तो उन्हें हम एक बेहद योग्य अर्थशास्त्री कह सकते है क्योंकि उन्हें इस क्षेत्र का बहुत सालों का अनुभव रहा है और रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया के गवर्नर के तौर पर उन्होंने 4 सितम्बर 2013 को उस समय के गवर्नर डी सुब्बाराव सेवानिवृत्ति  के बाद उन्होंने यह पद ग्रहण किया और इस से पहले वो प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के मुख्य आर्थिक सलाहकार भी रह चुके है | Raghuram Rajan 2003 से 2006 तक अंतराष्ट्रीय मुद्रा कोष के मुख्य अर्थशास्त्री और अनुसन्धान निदेशक भी रह चुके है | साथ ही उन्होंने भारत के योजना आयोग द्वारा भारत में वित्तीय सुधार के लिए गठित की गयी कमेटी को लीड करने वाले सदस्य भी रह चुके है यह नवम्बर 2008 का समय था  | इसलिए हम कह सकते है कि आर्थिक जगत में Raghuram Rajan एक जाना पहचाना नाम है | American Finance Association के प्रेसिडेंट के तौर पर भी राजन में 2011 में काम किया है |


Personal Life – राजन की निजी जिन्दगी की बात करें तो उन्होंने  Radhika Puri Rajan से शादी की जिन्हें वो आईआईएम अहमदाबाद में अपनी पढाई के दौरान मिले थे | राधिका अब  University of Chicago Law School में पढ़ाती है | राजन के एक बेटा और एक बेटी है | उनके बड़े भाई अमेरिका एक एक सोलर कम्पनी में काम करते है और उनकी बहन की शादी एक आईएस ऑफिसर से हुई है और वो दिल्ली में फ्रेंच टीचर है |


Interesting facts about Raghuram Rajan – आप रघुराम राजन को चाहे कैसे भी जानते हो आप उन्हें गंभीर अर्थशास्त्री के तौर पर जानते हो या रिज़र्व बैंक के गवर्नर के तौर पर लेकिन फिर भी उनके बारे में कुछ चीजे है जो आप नहीं जानते तो चलिए इसी बारे में जानते है –


 

Raghuram rajan

1970 में उनके पिता की पोस्टिंग श्रीलंका में तो राजनीतिक उथल पुथल के चलते उन्होंने अपने एक साल के स्कूल को मिस कर दिया था |

राजन hindi के मामले में थोड़े कम है क्योंकि उनके पिता की पोस्टिंग शुरू में देश के बाहर ही रही जिसमे इंडोनेशिया , श्रीलंका और बेल्जियम जैसे देश है जिसकी वजह से उन्होंने 7th क्लास में hindi को जानने और पढने का मौका मिला |

Raghuram Rajan IIT से ग्रेजुएशन में और बाद में IIM अहमदाबाद में गोल्ड मेडलिस्ट रहे है |


उनके छोटे भाई मुकुन्द राजन जो है टाटा ग्रुप के  Chief Ethics Officer के पद पर कार्य कर रहे है |


राजन ने राधिका राजन से शादी की है जिन्हें वो तब मिले जब वो IIM अहमदाबाद में पढ़ रहे थे |


राजन ने 2005 में एक शोधपत्र प्रस्तुत किया जिसमे आने वाले समय और उस समय के चल रहे वित्तीय जोखिम और तरीके पर चिंता जताई गयी थी लेकिन उस समय उनके इस शोधपत्र को नकारात्मक लिया गया लेकिन बाद में 2008 में आई वैश्विक मंदी ने उन्हें सही साबित कर दिया |


2003 में उन्हें ब्लेक फिशर अवार्ड से नवाजा गया जो उन्हें मिलता है जिनका वितीय सेक्टर में प्रभावी योगदान हो और जो 40 की उम्र से कम हो |


राजन खेल के मामले में Tennis and Squash दोनों में बेहतर है | साथ ही उन्हें स्विमिंग का बेहद शौक है |


राजन हिंदी में थोड़े कमजोर है लेकिन तमिल और इंग्लिश पर उनकी शानदार पकड़ है | फ्रेंच भी उन्हें थोड़ी बहुत आती है |


राजन को सुडोकु और क्विज जैसी चीजे बेहद पसंद है |


राजन शराब और स्मोक नहीं करते है साथ ही वो शुद्ध शाकाहारी है |


उनका मासिक वेतन करीब 1,98,700 रूपये है |


उनका कार्यकाल सितम्बर 2016 में ख़त्म हो रहा है और हाल फ़िलहाल उन्होंने कहा है वो आगे के कार्यकाल को बढाने के पक्ष में नहीं है  और वापिस जाना चाहते है हालाँकि देश को उनकी जब भी जरुरत रहेगी वो उपलब्ध रहेंगे |

एक इंटरव्यू में यह सामने आया जब उनकी माँ ने उनके बारे में कुछ राज कहे उनके अनुसार राजन इतने धार्मिक नहीं है और कम ही मंदिर में जाते है | उन्होंने कहा “ और इसकी जरुरत भी नहीं है क्योंकि जो आदमी अच्छा है भगवान् हमेशा उसके साथ ही होते है |”


raghuram rajan ने अपने कार्यकाल में NPA (Non-performing asset) को लेकर भी काफी सकारामक काम किये है | साथ ही ऑनलाइन फ्रॉड आदि के बारे में भी समय समय पर चिंता जताते हुए इन्होने बैंकिंग सिस्टम के सुधार पर काफी जोर दिया है |


रघुराम राजन विवाद – असल में राजन के अपने दूसरे कार्यकाल को बढाने की इच्छा के पीछे यह विवाद है जो सुब्रमण्यम स्वामी के ब्यान और प्रधानमंत्री को उनकी भेजी गयी चिट्टी की वजह से उपजा है जिसमे उन्होंने Raghuram Rajan पर आरोप लगाते हुए यह कहा कि “ Raghuram Rajan मानसिक तौर पर पूरी तरह ठीक नहीं है और उन्होंने जानबूझकर भारतीय अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुँचाया है | “ उन्होंने कई तरह के और भी इल्जाम Raghuram Rajan पर लगाये है और उन्हें तत्काल पद से हटाने की भी मांग कर डाली | हालाँकि राजन अपनी यूनिवर्सिटी की दुनिया से तीन साल की छुट्टी पर है और इंटरव्यू के दौरान उन्होंने यह बताया कि वो भी अब दूसरे कार्यकाल के लिए इच्छुक नहीं है और अपनी उसी दुनिया में वापिस जाना चाहते है | उनके जानकारों और समर्थन करने वालों के हिसाब से राजन को जिस तरह से ट्रीट किया गया वो ठीक नहीं है और ना ही सरकार ने उनके पक्ष में कुछ ऐसा किया जिस से विवाद कम होता इसलिए उनका यही फैसला ठीक है |


तो ये है raghuram rajan biography in hindi  और अगर आपको राजन के विषय में और अधिक जानकारी है तो आप हमसे कमेन्ट के जरिये साझा कर सकते है या कमेन्ट के माध्यम से कोई सवाल पूछ सकते है | हमे hindi updates पाने के लिए आप हमे फेसबुक पेज पर फॉलो कर सकते है या ईमेल सब्सक्रिप्शन भी ले सकते है |

Similar Topics

Post a Comment