-->

मांगने की आदत जाती नहीं Mnagne Ki Adadat Jati Nahi Bhajan

1 टिप्पणी

 मांगने की आदत जाती नहीं भजन 


जैसा चाहो मुझको समझना

बस इतना ही तुमसे कहना ।


मांगने की आदत जाती नहीं

तेरे आगे लाज मुझे आती नहीं ।।


बड़े बड़े पैसे वाले भी

तेरे द्वारे आते हैं ।

मुझको हैं मालुम की वो भी


तुझसे मांग के खाते हैं ।

देने में तु घबराता नहीं

तेरे आगे लाज मुझे आती नहीं ।।


तुमसे दादा शरम करू तो

और कहां मैं जाऊंगा ।


अपने इस परिवार का खर्चा

बोल कहां से लाऊंगा ।


दुनिया तो बिगड़ी बनाती नहीं

तेरे आगे लाज मुझे आती नहीं ।


तु ही कर्ता मेरी चिंता 

खुब गुजारा चलता हैं ।


कहे ‘पवन’ की तुझसे ज्यादा

कोई नहीं कर सकता हैं ।


झोली हर कही फैलाई जाती नहीं

तेरे आगे लाज मुझे आती नहीं ।।


जैसा चाहो मुझको समझना

बस इतना ही तुमसे कहना ।


मांगने की आदत जाती नहीं

तेरे आगे लाज मुझे आती नहीं ।

Related Posts

1 टिप्पणी

  1. This actually reveals 카지노 of their portfolio, with the visual property full of vibrant colors. Step into our High Limit Room, where you retreat to an intimate setting that options premium leather furniture, a dedicated cashier cage and, in fact, high denomination slot machines. But then what occurs after 4-coin flips, on the fifth flip, what are the chances of getting heads? The odds of possibilities of an event occurring randomly are fully unbiased of the outcomes of earlier occasions.

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें